Breaking News

Breaking News English

Urgent::www.AMUNetwork.com needs Part Time campus Reporters.Please Contact:-deskamunetwork@gmail.com
अलीगढ़ ::एएमयू कुलपति जमीरउद्दीन शाह का सेवा काल सेना के इतिहास में स्वच्छ, अनुशासनप्रिय एवं वीरता की गाथाओं से परिपूर्ण है।

अमुवि को एक बार फिर फौजी वी सी ही चुनना होगा।

दिल्ली। अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी यानि वो इदारा जिसका एक और तो अल्पसंखयक किरदार मिटाने की बात चल रही हो।वही दूसरी और उसके ऑफ सेण्टर पर खतरे में है। ये वो हालात है जो सिर्फ एक तस्वीर बयान कर रहे है बाकि कई ऐसी तस्वीरें भी है जो लोगो के सामने इतनी आसानी से नहीं आती।

कुछ खास लोग जो अमुवि से सीधे तोर पर वाबस्ता है वो उन तीरो से वाकिफ होंगे तो नादान दुश्मन वक़्त बे वक़्त मरता रहता है।

खेर हम बात कर रहे है अमुवि की वी सी की। कौन होगा अमुवि का नया वी सी। आई ए एस होगा। या अकेडमिक होगा। या फिर से फौजी होगा।

अमुवि में आई ए एस वी सी भी रहे है लेकिन उनके साथ कुछ तजुर्बा ऐसा रहा की वो नेताओ से दो कदम पीछे चलते नज़र आते थे। बाकि कहानी पुराने लोगो को मालूम होगी।

अमुवि के वी सी अकेडमिक भी रहे। पढाई का स्टेटस बढ़ाया भी। लेकिन कई करेप्शन देखने को मिले। 

जनरल साहब का कार्य काल देखे तो बहुत कुछ सीखने को मिलता है। यू पी ए 2 और मोदी सरकार दोनों दौर देखे। और कई बड़े हालातो से एक फौजी की तरह लड़ता देखा। जीतता देखा। ज़्यादा डीप में जाने का मोज़ू इस लिए नहीं है की अमुवि के बड़े मुद्दे और मोजुदा हालात जगजाहिर है।

ऐसे में मोजुदा वक़्त का तकाज़ा ये है की हमें एक बार फिर एक फौजी अधिकारी की ही ज़रुरत है ताकि वो अमुवि की ये जंग जीत में बदले। अब चाहे वो मोजुदा पी वी सी ही क्यों न हो।

लेखक
सय्यद आमिर (Alig)

1 comment:

  1. university chalane k lie army ki zarurat nahi hoti hai,Indian govt. lakhon rupee spend kr k army officers ko university chalane k lie nahi banati hai AMU EC members aur courts ko UGC k guideline k mutabiq koe achhe academician ko choose kr k VC banana chahie n ki kisi army man

    ReplyDelete