Breaking News

Breaking News English

Urgent::www.AMUNetwork.com needs Part Time campus Reporters.Please Contact:-deskamunetwork@gmail.com
अलीगढ़ ::एएमयू कुलपति जमीरउद्दीन शाह का सेवा काल सेना के इतिहास में स्वच्छ, अनुशासनप्रिय एवं वीरता की गाथाओं से परिपूर्ण है।

सेक्युलर देश और संविधान बचेगा तो एएमयू और जामिया भी बचेगी: अमीक़ जामेई


सेक्युलर देश और संविधान बचेगा तो एएमयू और जामिया भी बचेगी: अमीक़ जामेई

15 January, 2016 , नयी दिल्ली
:मोदी सरकार की असफलता छुपाने के लिए एएमयू-जामिया का मुद्दा छेड़ा जा रहा है!
:मुसलमानो के अधिकार सिर्फ सेक्युलर राज में ही मेहफ़ूज़!
:बिहार की बेइज़्ज़ती के बाद उत्तर प्रदेश चुनाव में परास्त को लेके खौफ में है मोदी सरकार!
:दलित पिछड़े और मुसलमान एकता दिखाए!
:आगामी 25 फरवरी सेशन के दौरान आल पार्टी और दानिश्वरो की बैठक, दिल्ली के कांस्टीट्यूशन क्लब में होगी बैठक!!


देश की सेक्युलर आवाज़ और निर्दोष युवाओ की आन शान की  लड़ाई लड़ने वाले नौजवान अमीक़ जामेई ने आज प्रेस को बात करते हुए कहा है की भाजपा सरकार यानि इसके पीछे संघ का हमेशा से दो चेहरा रहा है, एक दिखाने का जिसमे वज़ीर ए आजम मोदी इनकी सरकार मुसलमानो के हाथ में क़ुरान और कम्यूटर की बात करते है  दूसरा षड्यंत्र का काम होता है, अलीगढ और जामिया मिल्लिया पर जिस तरह संघ हमलावर हुआ है इससे साफ़ पता चलता है की  सेक्युलर ताक़तों के ज़रिये क़ायम इदारे के साथ साथ अकलियतों के जितने भी इदारे क़ायम किये गए या तो वह भगवा रंग में रंग देना चाहती है अगर वह तैयार न हो तो उनकी तारीख को मिटा दिया जाये!  

जामेई ने कहा की उन्हें कोई मोदी सरकार के इस कारनामे से उन्हें कोई आश्चर्य नहीं है यह उनके एजेंडे का हिस्सा रहा है हुकूमत के जितने इदारे है आज उन्हें भगवा रंग में रंग ही दिया गया है, हमने लोकसभा में मुसलमानो के तबके को चेताया था की लोगो के अधिकार सिर्फ सेक्युलर ताक़तों के राज में ही सुरक्षित रह सकते है लेकिन सेक्युलर ताक़तों के खिलाफ हवा बानी जिसे भाजपा ने भुनाया था और लोकसभा में सेक्युलर  ताक़तों की बुरी हार हुयी!
जामेई ने कहा है कि पूरे देश में अकलियत पिछड़े और दलित निशाने पर है, और भाजपा को परास्त करने का सही तरीका यही होगा की बिहार मॉडल पर अकलियत पिछड़े और दलित एक हो जाये और ज़ाती मुफ़ाद न देखकर पहले मुल्क को संविधान बचा ले, अमीक़ ने कहा की उनका काम समाज को शिक्षित करना और सियासत को बताना भी है तो इस वक़्त अलीगढ और जामिया के मामले में बेहतर होगा की  मुसलमान आगे न आकर राजनैतिक दल इसे मुद्दा बनाये और मुस्लमान फिलहाल मोदी सरकार से अपने इक्तेसादी हक़ पर ठीके रहे और हुकूमत में अपने हिस्सा और रोज़गार के लिए सरकार को घेरे, जामेई ने कहा ने की वह चाहते है की बंगाल और केरला की लेफ्ट सरकार ने सर सय्यद के काम को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने अपने राज्य में यूपीए वन एएमयू के कैम्पस खोले आज जब दलित पिछड़े तबके के साथ अकलियतों के जम्हूरी हक़ूक़ पर हमला है तो सेकुलरिज्म के मामले में ईमानदार ताक़त लेफ्ट इस लड़ाई की कमान संभाले!

No comments:

Post a Comment